Bihar Board Class 12th Political Science Notes Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

Bihar Board Class 12th Political Science Notes Chapter 5 समकालीन दक्षिण एशिया

→ ‘दक्षिण एशिया’ शब्द का प्रयोग प्रायः भारत, पाकिस्तान, नेपाल, भूटान, बंगलादेश, श्रीलंका व मालदीव को इंगित करने के लिए किया जाता है।

→ दक्षिण एशिया का क्षेत्र उत्तर में विशाल हिमालय पर्वत श्रेणी, दक्षिण में हिन्द महासागर, पूर्व में बंगाल की खाड़ी एवं पश्चिम में अरब सागर के कारण एक विशिष्ट प्राकृतिक क्षेत्र के रूप में दिखाई देता है।

→ भारत और श्रीलंका में स्वतन्त्रता प्राप्ति के बाद से ही लोकतान्त्रिक व्यवस्था सफलतापूर्वक स्थापित है।

→ पाकिस्तान और बंगलादेश में लोकतान्त्रिक एवं सैन्य दोनों प्रकार की शासन व्यवस्था रही है।

→ नेपाल में सन् 2006 तक संवैधानिक राजतन्त्र था। उसके बाद यहाँ लोकतन्त्र स्थापित हो गया।

→ भूटान में वर्तमान में राजतन्त्र स्थापित है।

→ सन् 1968 में गणतन्त्र बनाने के पश्चात् से ही मालदीव में अध्यक्षात्मक शासन प्रणाली को अपनाया गया।

→ पाकिस्तान में लोकतन्त्र के स्थायी न बन पाने के प्रमुख कारण हैं सेना, धार्मिक और भू-स्वामी अभिजनों का दबदबा।

→ संयुक्त राज्य अमेरिका एवं अन्य पश्चिमी देशों ने अपने-अपने स्वार्थों की पूर्ति हेतु दक्षिण एशिया में सैन्य शासन को बढ़ावा दिया है।

→ सन् 1947 से सन् 1971 तक बंगलादेश, पाकिस्तान का एक अंग था, जो दिसम्बर 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के बाद एक स्वतन्त्र देश के रूप में अस्तित्व में आया।

→ बंगलादेश में सन् 1975 में सैन्य शासन की स्थापना हो गई। सन् 1991 से बंगलादेश में बहुदलीय चुनावों पर आधारित प्रतिनिधिमूलक लोकतन्त्र स्थापित है।

→ नेपाल अतीत में एक हिन्दू राज्य था। आधुनिक काल में सन् 1990 तक यहाँ संवैधानिक राजतन्त्र रहा।

→ सन् 2002 में नेपाल के राजा ने संसद को भंग कर लोकतन्त्र को समाप्त कर दिया।

→ अप्रैल 2006 में नेपाल में देशव्यापी लोकतन्त्र समर्थक प्रदर्शन हुए। अन्ततः पुन: नेपाल में लोकतन्त्र की स्थापना हुई।

→ श्रीलंका की राजनीति में बहुसंख्यक सिंहली समुदाय का वर्चस्व है। इन लोगों का मत है कि श्रीलंका केवल सिंहली लोगों का है। अत: तमिलों के साथ कोई सहानुभूति न बरती जाए।

→ दक्षिण एशिया में भारत की केन्द्रीय स्थिति होने के कारण अधिकांश संघर्षों का सम्बन्ध भारत से है।

→ भारत और पाकिस्तान के मध्य संघर्ष का मुद्दा कश्मीर एवं आतंकवाद को बढ़ावा देना है।

→ भारत और पाकिस्तान के मध्य तनाव के प्रमुख कारण हैं-सियाचिन ग्लेशियर पर नियन्त्रण, हथियारों की होड़, सिन्धु नदी-जल बँटवारा आदि।

→ भारत और बंगलादेश के मध्य गंगा और ब्रह्मपुत्र नदी के जल में भागीदारी सहित कई मुद्दों पर मतभेद हैं।

→ भारत एवं बंगलादेश के मध्य सहयोग के क्षेत्र हैं-आर्थिक सम्बन्ध, आपदा प्रबन्धन एवं पर्यावरण सम्बन्धी मुद्दे।

→ भारत व नेपाल के मध्य हुई सन्धि के तहत दोनों देशों के नागरिक एक-दूसरे के देश में बिना पासपोर्ट और वीजा के आ-जा सकते हैं और कार्य कर सकते हैं।

→ श्रीलंका और भारत के मध्य तनाव इस द्वीपीय देश में जारी जातीय संघर्ष को लेकर है।

→ भारत के सहयोग से भूटान में ‘पनबिजली’ की बड़ी परियोजनाएँ संचालित हैं।

→ दक्षिणी-एशियाई देशों ने आपसी सहयोग बढ़ाने हेतु दक्षेस नामक संगठन की स्थापना की है।

→ दक्षिण एशिया के सभी देश अपनी सीमा रेखा के आर-पार मुक्त व्यापार को सहमत हो जाएँ तो इस क्षेत्र में शान्ति एवं सहयोग की शुरुआत हो सकती है। इसके पीछे साफ्टा का हाथ है।

→ गणतन्त्र-ऐसा देश जिसका अध्यक्ष जनसाधारण अथवा उसके चुने गए प्रतिनिधियों द्वारा निर्वाचित किया जाता है।

→ राजतन्त्र-ऐसी शासन-व्यवस्था जिसमें राजा अथवा रानी का पद पैतृक होता है।

→ अध्यक्षात्मक प्रणाली-इस प्रकार की शासन-व्यवस्था में अध्यक्ष अथवा राष्टपति सर्वोच्च होता है।

→ संसदीय प्रणाली-इस प्रकार की शासन-व्यवस्था में संसद सर्वोच्च होती है।

→ बहुदलीय लोकतान्त्रिक प्रणाली इस प्रकार की शासन-व्यवस्था में देश में दो से अधिक राजनीतिक दल लोकतान्त्रिक शासन प्रणाली के अन्तर्गत कार्यरत रहते हैं।

→ कोलम्बो योजना-सन् 1962 की सैनिक भिड़न्त के कुछ समय बाद ही सीमा विवाद के समाधान हेतु छह एफ्रो एशियाई देशों ने जो योजना प्रस्तुत की थी उसे कोलम्बो योजना के नाम से जाना जाता है।

→ साफ्टा-1 जनवरी, 2006 से प्रभावी हुआ दक्षिण एशिया मुक्त व्यापार क्षेत्र समझौता, जो सम्पूर्ण एशियाई देशों को मुक्त व्यापार क्षेत्र बनाने के लिए किया गया।

→ आई०एस०आई०—यह पाकिस्तान की खुफिया एजेन्सी है जिसका पूरा नाम ‘इण्टर सर्विसेज इण्टेलीजेन्स’ है।

→ शिमला-समझौता–भारत तथा पाकिस्तान के बीच 2 जुलाई, 1972 को हुए समझौते को इस नाम से जाना जाता है।

→ ताशकन्द समझौता–भारत और पाकिस्तान के मध्य सन् 1965 में हुए युद्ध के पश्चात् दोनों देशों के मध्य हुए समझौते को ताशकन्द समझौता कहा जाता है।

→ दक्षेस (सार्क) दक्षिण एशिया क्षेत्रीय सहयोग संगठन। यह दक्षिण एशिया के आठ देशों का एक क्षेत्रीय आर्थिक संगठन है जिसकी स्थापना इन देशों में आपसी सहयोग बढ़ाने के उद्देश्य से की गई है।

→ अटल बिहारी वाजपेयी-भारत के प्रधानमन्त्री रहे। इन्होंने फरवरी 1999 में बस से लाहौर जाकर शान्ति के एक घोषणा-पत्र पर हस्ताक्षर किए।

→ परवेज मुशर्रफ-पाकिस्तानी सेना के तत्कालीन सेनाध्यक्ष, जिन्होंने सन् 1999 में प्रधानमन्त्री शरीफ का तख्ता पलटकर पाकिस्तान में सैन्य शासन की स्थापना की।

Bihar Board Class 12th Political Science Notes

Leave a Comment